Subscribe

RSS Feed (xml)

Powered By

Skin Design:
Free Blogger Skins

Powered by Blogger

सुस्वागतम

आपका हार्दिक स्वागत है, आपको यह चिट्ठा कैसा लगा? अपनी बहूमूल्य राय से हमें जरूर अवगत करावें,धन्यवाद।

April 07, 2008

मेरे संग खेलोगे?

मेरे संग खेलोगे?
अनिता कुमार

बचपन में याद है न हम सब ने न जाने कितनी दुपहरियां टीचर-टीचर, डाक्टर-डाक्टर, मम्मी-पापा और न जाने क्या क्या खेलते हुए बिताई थी। मम्मी सो रही होती थी और हम चुपके से तार पर सूखती उनकी साड़ी खींच कर ले आते थे , उलटी सीधी जैसी लपेटी जाती लपेट ली जाती( मैं आज तक नहीं समझ पाई ये साड़ी इतनी लंबी क्युं बनाई जाती है, लपेटते ही जाओ, लपेटते ही जाओ…अजीत जी को पूछना पड़ेगा ये हिन्दी का मुहावरा "लपेट लिया" और साड़ी लपेटने का कोई संबध है क्या?…:)) और फ़िर अलमारी खोलते ही भड़ भड़ करते हमारे छोटे छोटे किचन के खिलौने बर्तन जमीन पर फ़ैल जाते थे। आवाज सुन कर मम्मी समझ तो जाती थीं कि उनकी धुली साड़ी फ़िर से धोनी पड़ेगी पर नींद में वहीं से डांट लगा कर गुस्से की इतिश्री कर देती थीं। हम भी अपने साजो सामान लपेटे बाहर बरामदे निकल लेते थे और फ़िर शुरु होता था घर-घर का खेल्। कल्पना के पंख लगते ही मन पता नहीं क्या क्या खुराफ़ातें करने को मचल जाता था।
आगे यहाँ पढ़ें.......... रेडियोनामा

7 comments:

PD said...

अभी यहां टिपियाये जा रहें हैं.. अभी वहां भी टिपियायेंगें.. मगर आपको यहीं पूरा पोस्ट देना चाहिये था.. अब वहां भी जाना परेगा.. :D

राज भाटिय़ा said...

घर से ज्यादा दुर नही जाना चहिये बुजुर्ग कहते हे,यही टिपी याण टिपीयाना कर लेते हे ठीक हे ना सागर नाहर जी

दिनेशराय द्विवेदी said...

चलो तबादला कुबूल।

डॉ. अजीत कुमार said...

अगर सभी जनॊं ने रेडियोनामा वाली पोस्ट पढ़ ली हो तो तो प्रशांत जी भी जान गये होंगे कि ये पोस्ट वहां क्यूं है और राज जी भी समझ गये होंगे कि कभी कभी घर से दूर भी काफ़ी आनंद आता है.

Mrs. Asha Joglekar said...

बहुत अच्छे । ऐसे ही रंगारंग कार्यक्रम देती रहिये ।

Dieta said...

Hello. This post is likeable, and your blog is very interesting, congratulations :-). I will add in my blogroll =). If possible gives a last there on my blog, it is about the Dieta, I hope you enjoy. The address is http://dieta-brasil.blogspot.com. A hug.

anitakumar said...

Hello dieta
I visited your blog but could hardly make out what is written as it is not in English. I am thankful that you liked my blog but amazed about how did you manage to read my blog, as it is apparent that you don't know hindi